Wednesday 26th of January 2022 01:20:49 AM

Breaking News
  •   पूर्व केन्द्रीय मंत्री आर पी एन सिंह बी . जे . पी . में शामिल |
  • गणतंत्र दिवस के अवसर पर उत्कृष्ट और साहसिक कार्यों के लिए 939 पुलिसकर्मी पुलिस पदक से सम्मानित।
  • देश में अब तक 162 करोड़ 92 लाख से अधिक कोविड रोधी टीके लगाये गये, स्वस्थ होने की दर 93 दशमलव एक-पांच प्रतिशत हुई।
  • उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण और पंजाब में एक चरण में होने वाले मतदान के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू।

Category: कविता

22 Jan

जय हिंद

उत्कल के उगते सूरज का,                 बंगाल  में किरणें आई किलकारी गूंजी  आंगन में,                 परिवार

15 Jan

खिचड़ी दोहावली

मकर राशि के गेह में, रवि ने किया प्रवेश     बहुत याद आया हमें, अपना गाँव प्रदेश   गन्ने से बनते हुए, गुड़ की सोंधी गन्ध      और

13 Jan

बेटियाँ

घर का स्वाभिमान होती है बेटियाँ पिता का गुमान होती है बेटियाँ जिस घर में जन्म वही छोड जाती बेटो से ज्यादा धैर्यवान होती है बेटियाँ घर की लक्ष्मी होती

10 Jan

माही मेरा

    तुझे देखके बदला नज़ारा अब तू ही मेरा सहारा की सुध बुध भुल गया में।   माही मेरा सबसे है प्यारा हर अदा पे हैं जीवन वारा की

1 Jan

नया वर्ष

नया वर्ष हो मंगलमय आप सबका मधुमय पवन में चमन झूमता है यशगान का परचम लहरे हमेशा आज पाताल धरती गगन झूमता है खुशियों से पूरा चमन झूमता है सुरभित

31 Dec

आवत – विगत वर्ष

साल पुरान बिदा करके अब नूतन रूप लिए फिर आया नाचत गावत स्वागत में हमने खुशियाँ हर साल मनाया लेकिन रोवत गावत साल बितावत नैनन पोछ न पाया मूर्ख बने

28 Dec

तुम आ जाते

ये उदास लम्हे मेरे फिर से खिल जाते दिन जो ,वर्ष के समान बीत रहे हैं यू नही बीतते कटते अगर तुम आ जाते। ठंडी की ये शामे याद तुम्हारी

19 Dec

समाचार-पत्र

दूर दूर शहर, नगर देश दुनिया की खबर हमें मिल जाता है जब सुबह अखबार वाला हमारे हाथ में पेपर देकर जाता है। समाचार पत्रों में अनेक अंजान खबरो से

6 Dec

श्रद्धा सुमन हम चढ़ाएं

गेंदा, गुलाब, जूही, चंपा- चमेली परिजात, रातरानी, रजनी – सुबेली बनाकर माला महामानव को  पहिनाएं, श्रद्धा सुमन हम चढ़ाएं अपमान का जहर पीके, अमृत दिया हमको जीवन में बदलाव स्वाभिमान

25 Nov

शरद ऋतु

शरद ऋतु आपन रंग देखावे लागल गीत द्वारे द्वारे आ के गावे लागल पानी सिकुड़ल नदियन के चमक नया भइल रहल बादल उतपाती कहीं हेरा गइल गॅवे गॅवे जब डेग

25 Nov

शरद ऋतु

शरद ऋतु आपन रंग देखावे लागल गीत द्वारे द्वारे आ के गावे लागल पानी सिकुड़ल नदियन के चमक नया भइल रहल बादल उतपाती कहीं हेरा गइल गॅवे गॅवे जब डेग