Saturday 25th of June 2022 03:33:41 AM

Breaking News
  • एन.डी.ए. की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कई केंद्रीय मंत्रियों और भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की उपस्थिति में नामांकन पत्र दाखिल किया।
  • भारतीय वायुसेना ने अग्निपथ योजना के अंतर्गत अग्निवीरों के पहले बैच की भर्ती के लिए आज से पंजीकरण शुरू किया।
  • एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी ने कहा-साइबर, सूचना और अंतरिक्ष युद्ध के नए क्षेत्र बन रहे हैं।
  • उच्‍चतम न्‍यायालय ने 2002 के गुजरात दंगों के मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी सहित 64 लोगों को एसआईटी की क्लीन चिट को चुनौती देने वाली याचिका खारिज की।
  • यूरोपीय संघ ने यूक्रेन, मोल्दोवा और जॉर्जिया को उम्मीदवार का दर्जा दिया।

Category: राजनीति

23 Jun

गलवान घाटी और भारत-चीन विवाद

भारत-चीन का मुद्दा फ़िलहाल सुलग सा रहा है. उस घाटी की कहानी बेहद दिलचस्प है| उस घाटी की शोध काश्मीर के रहने वाले और लद्दाख में जन्मे गुलाम रसूल गलवानी

27 May

आर्थिक लोकतंत्र की आवश्यकता

  1947 में भारतवर्ष अंग्रेजी दासता से मुक्त हुआ। साथ ही दो भागों में विभक्त हो गया  हिंदुस्तान और पाकिस्तान। कालांतर में पाकिस्तान का भी विभाजन हो गया पाकिस्तान और 

27 Apr

Covid- 19 का चीनी कनेक्शन

कोविड -19पर चीन की भूमिका और स्थिति के बारे में विशेषज्ञों की राय अलग-अलग हैं । आगे के अनुसंधान और रहस्योद्घाटनों के साथ हम सच के करीब पहुंचेंगे। नॉवेल कोरोना

12 Oct

भारत-चीन संबंधों में ‘‘चेन्नई कनेक्ट’’ से जुड़ेगा नया अध्याय- मोदी

चेन्नई – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि उन्होंने और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने द्विपक्षीय संबंधों में और अधिक सुधार के बारे में ‘‘सार्थक विचारविमर्श’’ किया। समीपवर्ती

3 Oct

प्रधानमंत्री मोदी के भाषण का प्रसारण रोकने वाले अधिकारी पर गिरी गाज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब से सत्ता में आए विपक्ष उनपर सबसे ज्यादा मीडिया की आवाज को दबाने का आरोप लगा रहा है। विपक्ष मोदी पर खुद को प्रचारित करने का

26 Sep

छात्र संघों से ही निकलते हैं बड़े नेता, इनको दबाना लोकतंत्र के लिए अहितकर

नीतीश कुमार, सुशील मोदी के सामने तेजस्वी यादव क्यों बौने साबित हो रहे हैं ? क्या सिर्फ पीढ़ीगत अंतर के चलते ? अरुण जेटली के बाद दिल्ली बीजेपी में शून्य-सा

26 Sep

छात्र संघों से ही निकलते हैं बड़े नेता, इनको दबाना लोकतंत्र के लिए अहितकर

नीतीश कुमार, सुशील मोदी के सामने तेजस्वी यादव क्यों बौने साबित हो रहे हैं ? क्या सिर्फ पीढ़ीगत अंतर के चलते ? अरुण जेटली के बाद दिल्ली बीजेपी में शून्य-सा