Wednesday 17th of April 2024 02:55:22 PM

Breaking News
  • घबराहट में 400 पार का नारा दे रही बीजेपी , बोले लालू – संविधान बदलने की कोशिश हुई तो जनता आँखे निकाल लेगी |
  • अमेठी – राय बरेली में BSP  नहीं देगी कांग्रेस को वाक ओवर |
  • BJP को सत्ता से हटाने पर ही देश स्वतंत्र रहेगा , ममता का दावा भगवा पार्टी के जीतने पर भविष्य में देश में कोई चुनाव नहीं होगा |
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 6 Feb 2023 6:26 PM |   167 views

तुर्की और सीरिया में 7.8 तीव्रता का भूकम्प

तुर्की और सीरिया में सोमवार को आए 7.8 तीव्रता के शक्तिशाली भूकंप के बाद 1,300 से अधिक लोग मारे गए और कई इमारतें ढह गईं। झटके साइप्रस द्वीप तक महसूस किए गए। मरने वालों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है क्योंकि बचावकर्मी मलबे से और शव निकालेंगे। तुर्की के अधिकारियों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सहायता के लिए कॉल करने पर “स्तर 4 अलार्म” बज गया है।

समाचार एजेंसी एएफपी ने बताया कि सीरिया के सरकारी नियंत्रण वाले हिस्सों में कम से कम 326 लोग मारे गए। देश के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने एक बयान में कहा, तुर्की में कम से कम 912 लोग मारे गए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की में आए भूकंप से जान-माल के नुकसान पर दुख जताया। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं। भारत तुर्की के लोगों के साथ एकजुटता से खड़ा है और इस त्रासदी से निपटने के लिए हर संभव सहायता देने के लिए तैयार है।

पीएम मोदी ने सीरिया में आए विनाशकारी भूकंप में मारे गए लोगों के प्रति भी शोक व्यक्त किया। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “यह जानकर गहरा दुख हुआ कि विनाशकारी भूकंप ने सीरिया को भी प्रभावित किया है। पीड़ितों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है। हम सीरियाई लोगों के दुख को साझा करते हैं और इस कठिन समय में सहायता और सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

भीषण भूकंप से निपटने के लिए भारत ने सहायता मिशन तैयार कर लिया है। पीड़ितों की सहायता के लिए भारत की ओर से एनडीआरएफ की दो टीमें भेजी जा रही हैं। इसके अलावा भारत दवाओं के साथ-साथ बड़ी मात्रा में राहत सामग्री भेज रहा है। प्रधानमंत्री के निर्देश के बाद प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी के मिश्रा ने तत्काल राहत उपायों पर चर्चा करने के लिए साउथ ब्लॉक में बैठक की।

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, यह निर्णय लिया गया कि राहत सामग्री के साथ राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और चिकित्सा दलों को तुर्की गणराज्य की सरकार के समन्वय से तुरंत तुर्की भेजा जाएगा। 

Facebook Comments