Tuesday 21st of September 2021 01:17:15 AM

Breaking News
  • चरणजीत सिंह चन्‍नी ने पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली। प्रधानमंत्री ने उन्‍हें बधाई दी। कहा–केंद्र, पंजाब के लोगों की भलाई के लिए राज्‍य के साथ मिलकर काम करता रहेगा।
  • देश के कई राज्‍यों में कोविड दिशा-निर्देशों के साथ स्‍कूल फिर खुले।
  • राष्ट्रव्यापी टीकाकरण 81 करोड़ के पार। स्‍वस्‍थ होने की दर 97 दशमलव छह-आठ प्रतिशत हुई।
Facebook Comments
By : nar singh | Published Date : 21 Jun 12:21 PM

योग

संयुक्तराष्ट्र संघ ने योग दिवस को अधिकारिक मान्यता देकर हमारी प्राचीन गौरवशाली संस्कृति को विश्व मानस पटल पर स्थापित करने का महान कार्य किया है | भारतीय संस्कृति  की आत्मा है ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः “इसको समझने की प्रेरणा मिलेगी |

आजकल योग के बारे में कई प्रकार के विचार देखने को मिलतें है , जिनमे कुछ भ्रांतियां भी हैं |योग क्या है ?इसे सही रूप में समझने का योग दिवस एक अवसर है |सर्वप्रथम सदाशिव ने योग को ” संयोगो योगो इत्युक्तो जीवात्मा परमात्मन :के रूप में परिभाषित किया |श्रीकृष्ण ने योग को योग : कर्मेशु कौशलम कहा |महर्षि पतंजलि ने योग के महत्व को समझा और योग को आगे बढाया |महर्षि ने कहा -योग्श्च चित्त वृति निरोध :योग के आठो अंगो को श्रृखला बद्ध किया |जैसे – यम , नियम , आसन , प्राणायाम , प्रत्याहार ,धारणा ,ध्यान और समाधि |

आजकल योग के नाम पर सिर्फ आसन या व्यायाम किया जा रहा है योग बहुत ही सूक्ष्म वैज्ञानिक और आध्यात्मिक प्रक्रिया है |आसन का चुनाव मनुष्य के आंतरिक वृति और शारीरिक रोग के अनुसार होना चाहिए |आसन का सही चुनाव नही होने पर लोग संकट में पड़ सकतें हैं |योगासन का अभ्यास मंच और टी. वी. पर देखकर नही करना चाहिए | क्योकि आज योग के नाम पर मार्केटिंग हो रही है ,योग गुरु बनने की होड़ लगी है |जो भारतीय सभ्यता और संस्कृति का हनन है |

Facebook Comments