Friday 2nd of December 2022 04:35:27 AM

Breaking News
  • भारत आज औपचारिक रूप से जी-20 समूह की अध्‍यक्षता ग्रहण करेगा। देशभर के एक सौ स्मारकों पर जी-20 के प्रतीक चिह्न से रोशनी की जाएगी।
  • भारत और ऑस्‍ट्रेलिया आर्थिक सहयोग और व्‍यापार समझौता 29 दिसम्‍बर से लागू होगा।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक आज से प्रायोगिक तौर पर डिज़िटल रुपए की शुरुआत करेगा।
  • नागालैंड में 10 दिन का हॉर्नबिल महोत्‍सव आज से किसामा में शुरू हो रहा है।
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 4 Aug 5:33 PM |   87 views

मैं नरेंद्र मोदी से नहीं डरता, लोकतंत्र की रक्षा और सद्भाव के लिए लड़ते रहेंगे: राहुल गांधी

नयी दिल्ली- कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘नेशनल हेराल्ड’ मामले में प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई को लेकर बृहस्पतिवार को कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नहीं डरते और उन्हें धमकाकर चुप नहीं कराया जा सकता। उन्होंने कहा कि देश और लोकतंत्र की रक्षा तथा सद्भाव बरकरार रखने के लिए वह लड़ाई लड़ते रहेंगे।

राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ये धमकाने का प्रयास है। ये सोचते हैं कि थोड़ा सा दबाव डालकर हमें चुप करा देंगे, लेकिन हम चुप नहीं होने वाले हैं। नरेंद्र मोदी जी, अमित शाह जी इस देश में लोकतंत्र के खिलाफ जो कर रहे हैं उसके विरूद्ध हम खड़े रहेंगे, चाहे ये कुछ भी कर लें। हमें कोई फर्क नहीं पड़ता।’’

भाजपा के एक आरोप के संदर्भ में कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘भागने की बात कौन कर रहा है, भागने की बात वो कर रहे हैं। हम डरने वाले नहीं हैं। हम नरेंद्र मोदी से नहीं डरते हैं। कर लें जो करना है। कुछ फर्क नहीं पड़ता।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरा काम है देश की रक्षा करना, लोकतंत्र की रक्षा करना, देश में सद्भाव को बरकरार रखना, वो मैं करता रहूंगा।’’

उल्लेखनीय है कि प्रवर्तन निदेशालय ने धनशोधन के मामले में अपनी कार्रवाई के तहत बुधवार को दिल्ली में ‘नेशनल हेराल्ड’ कार्यालय में ‘यंग इंडियन’ कंपनी के परिसर को ‘अस्थायी रूप से सील’ कर दिया था।

कांग्रेस ने यह दावा किया कि दिल्ली पुलिस ने उसके मुख्यालय, पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के आवासों को घेर लिया। उसने सरकार पर ईडी के दुरुपयोग का आरोप भी लगाया है।

इससे पहले, ईडी ने ‘नेशनल हेराल्ड’ से जुड़े धनशोधन के मामले में ही सोनिया गांधी और राहुल गांधी से पूछताछ की थी।

(भाषा)

Facebook Comments