Wednesday 1st of December 2021 11:21:37 PM

Breaking News
  • राज्‍यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडु ने विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खडगे की राज्‍यसभा के 12 सदस्‍यों का निलंबन रद्द करने की अपील खारिज की।
  • अभी तक देश में कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप का कोई मामला नहीं मिला : मांडविया
  • अगले 45 दिन में पूरे मेघालय में तृणमूल कांग्रेस के झंडे लहराते दिखेंगे: मुकुल संगमा|
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 26 Aug 5:47 PM

जनपद न्यायालय के न्यायाधीशगणों ने किया राजकीय बाल गृह का औचक निरीक्षण

 
 
देवरिया –  आज अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट तथा सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा राजकीय बाल गृह देवरिया में वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव एवं जनजागरूकता हेतु साफ-सफाई, शुद्ध पेयजल, खान-पान, तथा रहन-सहन का औचक निरीक्षण किया गया।
 
निरीक्षण के दौरान  न्यायाधीशगणों द्वारा उपस्थिति पंजिका का जांच किया गया जिसमें सभी कर्मचारी उपस्थित पायें गये। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश रजनीश कुमार द्वारा बताया गया कि इस समय बच्चों को कोरोना से बचाव हेतु उत्तम भोजन एवं शुद्ध जल की व्यवस्था की जायें जिससे उनके इम्यूनिटी पाॅवर बनी रहेें, एवं समय≤ पर काढ़ा का भी सेवन कराया जायें।
 
मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट भूपेन्द्र प्रताप ने राजकीय बाल गृह देवरिया में बच्चों के सोने हेतु उनके विश्रामालय, बच्चों के भोजन हेतु उनके खाद्य सूची का निरीक्षण करते हुये भोजन में पौष्टिक आहार रखने का निर्देश दिया। सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश शिवेन्द्र कुमार मिश्र द्वारा कोविड महामारी को देखते हुये निर्देश दिया कि बाल गृह के बच्चों का कोरोना टेस्ट को सप्ताह में एक बार अवश्य कराये साथ ही बच्चों को शुद्ध जल दिया जायें, गुणवत्तापूर्ण भोजन दिया जायें।
 
सभी बच्व्चों को मास्क पहनने के लियें प्रेरित किया जायें। बच्चों से योगा कराया जाये  । तत्पश्चात बच्चों के भोजन का निरीक्षण किया गया, मीनू के अनुसार भोजन सही पाया गया। राजकीय बाल गृह में जल जमाव की गन्दगी को तुरन्त सफाई कराने हेतु निर्देशित किया गया। जिससे अन्य विमारियों से भी बचा जा सके, सभी बच्चों को आगाह किया गया कि वे भीड़-भाड़ वाले जगहों से दूर रहे, क्योंकि इस समय बढ़ते कोरोना वायरस के दौरान सबकों सतर्क रहने की जरूरत हैं। सभी बच्चों के श्वास की जांच हेतु निर्देश दिया गया।
 
न्यायाधीश नासेहा वसीम व सुश्री श्रुति ने बच्चों के भोजन के किचेन में साफ सफाई की गुणवत्ता की जांच  किया, तथा भोजन की गुणवत्ता को बनायें रखने तथा बच्चों को हमेशा दूर से रहकर बात करने तथा गर्म पानी पीने का निर्देश दिया।
 
इस निरीक्षण में मुख्य रूप से अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश रजनीश कुमार, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट भूपेन्द्र प्रताप, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश शिवेन्द्र कुमार मिश्र, न्यायाधीश नासेहा वसीम तथा न्यायाधीश सुश्री श्रुति, बाल कल्याण अधिकारी जयप्रकाश तिवारी, राजकीय बाल गृह देवरिया के अधीक्षक यशोदानंद तिवारी व अन्य सम्बन्धित कर्मचारीगण उपस्थित रहें।
Facebook Comments