Friday 30th of July 2021 05:29:16 AM

Breaking News
  • कोविड रोधी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक 45 करोड़ सात लाख से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं। देश में स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर 97 दशमलव तीन-आठ प्रतिशत हो गई है।
  • प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्‍य में शिक्षा क्षेत्र में अनेक नए सुधारों का शुभारंभ करेंगे।
  • उच्चतम न्यायालय ने एफआरएल-रिलायंस सौदे के खिलाफ अमेजन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा|

कन्या राशि ( 9 दिसम्बर से 15 दिसम्बर  ) -इस सप्ताह की शुरुआत में चंद्रमा आपके अष्टम भाव में विराजमान होंगे जो इसके बाद आपके नवम, दशम भाव में होते हुए सप्ताह के अंत में आपके एकादश भाव में प्रवेश कर जाएंगे। इसके साथ ही शुक्र का गोचर भी इस सप्ताह आपके पंचम भाव में होगा। शुरुआत में चंद्रमा का गोचर अष्टम भाव में होने से आपको अपने भाग्य का साथ मिलेगा जिसके चलते आप कम मेहनत के ही अच्छी सफलता प्राप्त करने में कामयाब रहेंगे। लेकिन आपको इस सप्ताह किसी को न तो कोई उधार देना है और न ही किसी से उधार लेना है, अन्यथा आपका पैसा फँस सकता है, जो आपके लिए आगे चलकर हानिकारक सिद्ध होगा। सप्ताह के शुरुआत में पैसों से जुड़ी कुछ परेशानी होगी लेकिन बाद में धीरे-धीरे आप उसे अपनी काबिलियत से काफी हद तक कम कर ही देंगे। इसके बाद चंद्र के नवम भाव में होने से आपको परिवार का सुख मिलेगा और इस दौरान आप अपने परिजनों संग किसी धार्मिक स्थल पर जाने का विचार भी करेंगे। इस यात्रा पर यूँ तो आपका धन खर्च होगा लेकिन आमदनी सही होने से आपको ये खर्च ज्यादा नहीं खलेगा।

इसके बाद सप्ताह के मध्य में दशम भाव में चंद्र के गोचर करने से घर-परिवार से आपको सुकून और शांति का अनुभव होगा। दाम्पत्य जातकों के लिए भी समय अच्छा रहेगा क्योंकि आपकी संतान को उन्नति मिलेगी, जिससे उनका आत्मबल बढ़ेगा। इसके बाद सप्ताहांत में चंद्र के एकादश भाव में जाने से आपके स्वभाव में बदलाव आएगा और इस बदलाव से आपका किसी से भी झगड़ा होने का योग बनेगा। संभावना अधिक है कि ये झगड़ा कार्य स्थल पर किसी सहकर्मी से हो, जिससे आपकी छवि को भी नुक्सान पहुँचेगा। माता पिता से संबंधों में दूरियाँ आ सकती हैं। वहीं शुक्र के गोचर से आप में विनम्र का भाव उत्पन्न होगा, जिससे आप घर-परिवार में हर सदस्य की मदद के लिए तत्पर नज़र आएँगे। इस दौरान आपको न चाहते हुए भी परिस्थितियों के विपरीत जाकर कई सख्त निर्णय भी लेने पड़ सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप आपको किसी क़रीबी के विरोध का सामना भी करना होगा। सेहत पर भी ध्यान देने की ज़रूरत होगी।