Tuesday 21st of September 2021 01:43:51 AM

Breaking News
  • चरणजीत सिंह चन्‍नी ने पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली। प्रधानमंत्री ने उन्‍हें बधाई दी। कहा–केंद्र, पंजाब के लोगों की भलाई के लिए राज्‍य के साथ मिलकर काम करता रहेगा।
  • देश के कई राज्‍यों में कोविड दिशा-निर्देशों के साथ स्‍कूल फिर खुले।
  • राष्ट्रव्यापी टीकाकरण 81 करोड़ के पार। स्‍वस्‍थ होने की दर 97 दशमलव छह-आठ प्रतिशत हुई।
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 31 Dec 6:48 PM

हैप्पी न्यू ईयर

हम सभी एक दुसरे को 1st जनवरी को हैप्पी न्यू ईयर / नव वर्ष की शुभकामना देते हैं |किन्तु क्या कभी आपने सोचा है की हमलोग ऐसा क्यू करते है ? इसके पीछे कौन सा इतिहास है ? कोई भी पर्व अपने अन्दर ऐतिहासिक घटनाओं , परम्पराओं , खगोलीय घटनाक्रमों और पौराणिक विश्वासों को संजोये रहता है |नया साल का पर्व भी कुछ इसी प्रकार के तथ्यों पर आधारित है | 

मान्यता है कि jones के नाम पर रोम के बादशाह जुलियस सीजर द्वारा निर्मित कैलेंडर का प्रथम माह जनवरी से प्रारंभ होता है |यह कैलेंडर 45 वर्ष ई . पूर्व बना था तब से आज तक 1st जनवरी को नया साल का पर्व मनाया जाता है |

नव वर्ष के सम्बन्ध को एक खगोलीय घटनाक्रम से जोड़कर भी देखा जाता है |31 दिसम्बर को पृथ्वी और सूर्य एक दुसरे के सबसे नजदीक होते हैं |31 दिसम्बर को सबसे छोटा दिन होता है |1st जनवरी से दिन काफी बड़ा होता चला  जाता है इसलिए 1सत जनवरी को नव वर्ष का प्रारंभ मन जाता है |भारत में लगभग 12 कैलेंडर प्रचलित हैं , लेकिन चैत्र मॉस के प्रथम दिवस को नव वर्ष का प्रारंभ माना जाता है |

नवागत का स्वागत एक पवित्र परम्परा है |इसके स्वागत का तरीका भी मानवीय मूल्यों और सामाजिक आदर्शो के अनुरूप ही होना चाहिए |

                  ( लेखक –  नरसिंह )   

 

 

 

Facebook Comments