Tuesday 21st of September 2021 02:26:01 AM

Breaking News
  • चरणजीत सिंह चन्‍नी ने पंजाब के नए मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली। प्रधानमंत्री ने उन्‍हें बधाई दी। कहा–केंद्र, पंजाब के लोगों की भलाई के लिए राज्‍य के साथ मिलकर काम करता रहेगा।
  • देश के कई राज्‍यों में कोविड दिशा-निर्देशों के साथ स्‍कूल फिर खुले।
  • राष्ट्रव्यापी टीकाकरण 81 करोड़ के पार। स्‍वस्‍थ होने की दर 97 दशमलव छह-आठ प्रतिशत हुई।
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 23 Oct 11:58 AM

भोजपुरी भाषा

 

सृष्टि के विकास क्रम में कुछ विशेष प्रकार के उन्नत प्राणियों का उदभव हुआ |जीवित सन्ताओं में अपनी अनुभूतियों को एक दुसरे के साथ शेयर करने की स्वाभाविक प्रवृति का भी सृजन हुआ |क्योंकि जीवों में अपने भावो की अभिव्यक्ति एक नैसर्गिक गुण होता है |सामान्तया हम कह सकतें हैं कि प्राणियों में अपने अंतर्मन भावों की मौखिक अभिव्यक्ति ” भाषा ” है |इस प्रकार सभी जीव अपनी -अपनी भावों की अभिव्यक्ति अपनी भाषा में करतें हैं |समस्त जीवो की अपनी भाषा होती है |उदाहरणतया – चिड़ियों की चहचहाहट   

ब्रह्माण्ड का श्रेष्ठतम जीव मनुष्य है और इसने शाब्दिक अभिव्यक्ति का ब्यवस्थित भाषा का रूप प्राप्त किया है |मनुष्य की जीवंत सम्पदा भाषा ही उसका प्राण  धर्म है | इसलिए सभी मनुष्यों की भाषा एक है |क्योकि भाषा का जो मौखिक भाव है ,वह सभी भाषाओँ में सामान रूप से एक जैसा है |भौगोलिक परिवेश की विभिन्नता एवं शारीरिक बनावट के कारण भाषाओँ के बीच उच्चारणगत अंतर हो जाता है |इनमे शाब्दिक अभिव्यक्ति को भो हो किन्तु भाव एक होता है |      

“अत: भाषा आंतरिक भावों की शाब्दिक अभिव्यक्ति को कहते है |इस प्रकार निर्विवाद रूप से कहा जा सकता है कि  विश्व की सभी मानव जाति की भाषा एक है और अभिन्न हैं |सभी भाषाएँ एक सामान महत्वपूर्ण और आदर की पात्र हैं |किसी भी भाषा को पूर्ण रूप से भाषा का दर्जा प्राप्त करने के लिए उसमे कारकों का होना अनिवार्य है | ये कारक निम्न हैं –

1 – अपना कारक 

2 – क्रिया रूप 

3 – सर्वनाम 

4 – शब्द कोष 

5- उच्चारण रीति 

6- लिखित या अलिखित साहित्य 

7 – मानस बोधात्मक ध्वनि विसान्गत अभिव्यक्ति एवं तन्मात्रिक बोधात्मक 

     ध्वनि विसान्गत अभिव्यक्ति |

8- वाक्य संरचना विधि 

इनमे से कोई भी कारक न होने पर उपभाषा या बोली के रूप में उसकी गणना किया जायेगा |जैसे भोजपुरी की चार उपभाषाएं हैं – 

1 – डूमरावी 

2 – काशिका 

3 – चम्पारणी

4 – vastika

भारत की सभी भाषाएँ संस्कृत से उत्पन्न हुई है  |वैदिक भाषा की मृत्यु के बाद प्राकृत भाषा की उत्पत्ति हुई ,इनकी संख्या छ : है |

1 – मागधी प्राकृत 

2 – शौर सेनी प्राकृत 

3 – पैशाची प्राकृत 

4 – सैन्ध्वी प्राकृत 

5 – मालवी प्राकृत 

6 – द . प . महाराष्ट्रीय 

मागधी प्राकृत के दो रूप है| 

1 – अर्द्ध पूर्वी मागधी 

2 – अर्ध प . मागधी  

अर्द्ध पूर्वी मागधी से अंगिका कौशल ,असमिया ,मैथिलि और उत्कल ( उड़िया ) की उत्पत्ति हुई |

अर्द्ध पश्चिमी मागधी से मगही ,भोजपुरी ,नागपुरिया ( छोटा नागपुर ) तथा छतीसगढि की उत्पत्ति हुई |

भाषा विज्ञानं की कसौटी पर भोजपुरी में आठो कारक मौजूद हैं ,और भाषा के रूप में सम्मान पाने योग्य है |जो लोग भोजपुरी को बोली , विभाषा या हिंदी की उपभाषा कहते हैं उनके बारे में कहा जा सकता है कि वो भाषा विज्ञानं से अवगत नही है |भोजपुरी अपनी भाषा में मिठास के कारन विश्वविख्यात है |

(नरसिंह पूर्व प्राचार्य उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामेश्वरगंज रोहतास  बिहार)     

Facebook Comments