Sunday 20th of June 2021 03:26:53 AM

Breaking News
  • केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कहा: अनलॉक प्रक्रिया सावधानीपूर्वक व्यवस्थित हो |
  • गुजरात में 77 आईएएस अधिकारियों का तबादला |
  • पंचतत्व में विलीन हुए मिल्खा सिंह |
  • लखनऊ दौरे पर जितिन प्रसाद ने योगी आदित्यनाथ से की मुलाक़ात |
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 5 Jun 2:40 PM

सनराइज सेवा संस्थान ट्रस्ट एवं बाटमेन रिचर्स फाउण्डेशन के सहयोग से राजकीय बौद्ध संग्रहालय परिसर में वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया

गोरखपुर -विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर राजकीय बौद्ध संग्रहालय, गोरखपुर द्वारा सनराइज सेवा संस्थान ट्रस्ट एवं बाटमेन रिचर्स फाउण्डेशन के सहयोग से संग्रहालय परिसर में वृक्षारोपण का कार्यक्रम किया गया। वृक्षारोपण में काली मिर्च, इलायची एवं सुपारी आदि औषधीय पौधो का वृक्षारोपण किया गया। इस अवसर पर डाॅ0 शोभित कुमार श्रीवास्तव, डाॅ0 सुधाकर श्रीवास्तव, प्रशान्त पटेल, मृत्युंजय राम, वैशाली सिंह, डाॅ0 अभय श्रीवास्तव, प्रणव तिवारी एवं अर्पित मिश्रा उपस्थित रहे।

डाॅ0 शोभित श्रीवास्तव ने कहा कि आज पूरा विश्व पर्यावरण संरक्षण के लिए चिंतित  है। ऐसे में पर्यावरण कोे सुरक्षित एवं संरक्षित करने हेतु जन जन को जागरूक करना होगा। इसके लिए हमें दृढ़ संकल्प लेना होगा। पर्यावरण संरक्षण हेतु सरकार द्वारा अनेक कदम उठाये जा रहे हैं। वहीं देश के हर नागरिक को भी सचेत रहना होगा।

डा0 श्रीवास्तव ने संग्रहालय द्वारा किये गये प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि वास्तव में देखा जाय तो संग्रहालय सजग पर्यावरण प्रहरी की भूमिका भी निभा रहा है और डाॅ0 मनोज गौतम, उप निदेशक ने इसकी एक मिसाल कायम की है, क्योंकि इनके कुशल निर्देशन में संग्रहालय विकास के हर पहलू पर ध्यान आकर्षित किया जा रहा है।

संग्रहालय के उप निदेशक डाॅ0 मनोज कुमार गौतम ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार से जन सामान्य को जागरूक करने हेतु प्रचार-प्रसार किये जा रहे है। इसी कड़ी में संग्रहालय द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। संग्रहालय संस्कृति विरासत के संरक्षण तथा संवर्धन के साथ ही साथ पर्यावरण संरक्षण हेतु निरन्तर प्रयासरत है। पूर्व में संग्रहालय द्वारा परिसर में रूद्राक्ष, चन्दन, आंवला, बारहमासी सहजन, तेजपत्ता, दालचीनी, सिन्दुर इत्यादि औषधीय पौधों का रोपण किया गया था, जो वर्तमान में काफी हरे भरे एंव विकसित हो गये हैं। जो संग्रहालय के सौन्दर्य में जहाॅं चार चाॅंद लगा रहे हैं, वहीं दर्शकों के लिए आकर्षण के केन्द्र भी हैं। निश्चित तौर पर पर्यावरण को संरक्षित करना हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी है और समाज के हर वर्ग एवं प्रत्येक नागरिक को इसमे अपना योगदान देना चाहिये।

Facebook Comments