Sunday 20th of June 2021 03:43:04 AM

Breaking News
  • केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कहा: अनलॉक प्रक्रिया सावधानीपूर्वक व्यवस्थित हो |
  • गुजरात में 77 आईएएस अधिकारियों का तबादला |
  • पंचतत्व में विलीन हुए मिल्खा सिंह |
  • लखनऊ दौरे पर जितिन प्रसाद ने योगी आदित्यनाथ से की मुलाक़ात |
Facebook Comments
By : Nishpaksh Pratinidhi | Published Date : 3 Jun 2:04 PM

अन्तर्राष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस पर जागरुकता अभियान कार्यक्रम आयोजित किया गया

अयोध्या -आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एंव प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या, के सामुदायिक विज्ञान महाविद्यालय के मानव विकास एंव परिवारिक अध्ययन विभाग द्वारा जून 1, 2021  को अन्तर्राष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस- जागरुकता अभियान, ग्राम लाल का पुरवा, विकास खण्ड –खण्डासा, अयोध्या में आयोजित किया गया।

यह कार्यक्रम विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति, डा. ब्रिजेन्द्र सिंह जी की अनुमति एंव दिशानिर्देश में आयोजित किया गया। अभियान के शुभारम्भ में डा. रक्षा (गैस्ट फेकल्टी) ने उपस्थित अतिथियो एंव महिलाओ का स्वागत किया और दिवस के इतिहास के बारे में बताया।

कार्यक्रम में मानव विकास एंव परिवारिक अध्ययन विभाग की विभागाध्यक्ष, डा. सुमन प्रसाद मौर्य ने महिलाओ को बाल अधिकार एंव सम्बन्धित कानून के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

उन्होने बताया कि बालक-बालिकाए कई रुप में असुरक्षित है जैसे – अपहरण, बाल वैश्या वृति, छोडे जाना, भटक जाना, यौन शोषण, घरेलु हिंसा का शिकार, अंग-भंग कर भीख मांगने के लिए बाघ्य, बाल श्रम, बिमारियों से सुरक्षा, मानसिक एंव शारीरिक उत्पीडन, अजन्मे बच्चे के जीवन की सुरक्षा, बच्चों की स्वास्थ एंव उपेक्षा और दुरुपरोग होना आदि । बालको को दिये गए मूल अधिकार जैसे जीवन, पूर्ण विकास, सूरक्षा एंव सहभागिता का अधिकार पर चर्चा की, साथ ही बच्चो को सुरक्षित करने के लिए बने अधिनियमों के बारे में समझाया।

डा. साधना सिंह, विभागाध्यक्ष, खाद्य विज्ञान एंव पोषण ने हमारे समाज में बाल शोषण के स्वरुप और स्थिति पर चर्चा की और अभिवाहक का बच्चो पर नजर बनाए रखने पर आवश्यकता जाहिर की।

सहायक प्राध्यापक श्रीमती सरिता श्रीवास्तव ने वर्तमान में बाल शोषण सम्बन्धित आकडे बताते हुए बाल सुरक्षा में परिवार व समाज की भूमिका के महत्व के बारे में महिलाओ को जागरुक किया। बच्चों के कल्याण हेतु स्थानीय संस्थाओं के विषय मे पूर्ण जानकारी दी।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि  डा. नमिता जोशी, अधिष्ठाता सामुदायिक विज्ञान महाविद्यालय ने बाल शोषण मुक्त समाज बनाने हेतु परिवार  के महत्व को बताते हुए बालक एंव बालिकओ को समान रुप से संरक्षण देने पर बल दिया। दैनिक कार्यों में  लडकियो के साथ लडको की भी भागेदारी सुनिश्चित कराने व लडको को प्रारम्भ से ही महिलाओ को सम्मान देने की शिक्षा देने पर जोर दिया।

डा. जेबा (गैस्ट फेकल्टी) ने उपस्थित महिलाओ समेत कुलपति, आयोजको औरे मीडिया को धन्यावाद ज्ञापित किया। अन्तर्राष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस- जागरुकता अभियान के इस कार्यक्रम मे 27 महिलाए एंव पुरुष सम्मलित थे।

Facebook Comments